पार्लियामेंट के मानसून सत्र में नहीं होगा प्रश्नकाल, कोरोना का नियमों का किया जायेगा पालन

कोरोना वायरस के बीच संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू होगा।। संसद में बैठक के दौरान के कोविड-19  के नियमों का पालन किया जायेगा। संसद के सभी सदस्यों को अपने और अपने साथी सदस्यों के हित में हर हाल में खुद की कोविड-19 जांच करानी होगी। 
सचिवालय के सभी कर्मियों, सुरक्षाकर्मियों और सदन की कार्यवाही की कवरेज करनेवाले मीडिया कर्मियों को भी अपनी जांच करानी चाहिए। राज्यसभा सचिवालय द्वारा जारी एक अधिसूचना के अनुसार संसद के मानसून सत्र के दौरान कोई प्रश्नकाल नहीं होगा।
सदन की कार्यवाही के दौरान सांसदों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे, इसका पालन कराने के लिए सभी उपाय किये जायेंगे। लोकसभा और राज्य सभा के अधिकारियों और कर्मचारियों को भी संक्रमण से बचाने के पूरे प्रयास किये जायेंगे। 
संसदीय मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने मानसून सत्र 14 सितंबर से एक अक्तूबर तक आयोजित करने की सिफारिश की थी। यहां बिना किसी अवकाश अथवा सप्ताहांत की छुट्टी के लगातार कुल 18 बैठकें होंगी। 

अयोध्या की बाबरी मस्जिद का डिजाइन जामिया के प्रोफेसर करेंगे तैयार



Category : Uncategorized

Read Also: