Newer Posts Older Posts

Ganesh Chaturthi Importance: इसलिए हर साल मनाई जाती है गणेश .. Read more at:


भगवान गणेश को सभी संकटों को हरने वाला और सभी बाधाओं को दूर करने वाला देवता माना गया है। भाद्रमास के शुक्‍ल पक्ष की चतुर्थी को हर साल गणेश चतुर्थी मनाई जाती है। गणेश चतुर्थी का पर्व भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र गणेशजी को समर्पित होता है। इस दिन घर-घर में गणेशजी बैठाए जाते हैं। घरों के अलावा जगह-जगह पर पंडाल सजाए जाते हैं। इसके बाद 11 वें दिन बप्‍पा को पूरे गाजे-बाजे के साथ विदा कर दिया जाता है। यानी मूर्ति विसर्जन कर दिया जाता है। गणेश भगवान को विदाई देने के साथ ही भक्त अगले साल उनके जल्दी आने की कामना करते हैं।

गणेश चतुर्थी कब है, पूजा से पहले इन सभी बातों को भी जान लीजिए


गणेश चतुर्थी का महत्‍व
पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार, भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र गणेश का जन्‍म जिस दिन हुआ था, उस दिन भाद्र मास के शुक्‍ल पक्ष की चतुर्थी थी। इसलिए इस दिन को गणेश चतुर्थी और विनायक चतुर्थी नाम दिया गया। उनके पूजन से घर में सुख समृद्धि और वृद्धि आती है। शिवपुराण में भाद्रमास के कृष्‍णपक्ष की चतुर्थी को गणेश का जन्‍मदिन बताया गया है। जबकि जबकि गणेशपुराण के मत से यह गणेशावतार भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को हुआ था।
इसलिए नहीं देखा जाता गणेश चौथ का चांद
भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को रात्रि में चन्द्र-दर्शन निषिद्ध किया गया है। माना जाता है कि जो व्यक्ति इस रात्रि को चन्द्रमा को देखते हैं उन्हें झूठा-कलंक प्राप्त होता है। ऐसा शास्त्रों में बताया गया है।
बेहद खर्चीले होते हैं इन राशियों के लोग, रखते हैं शाही शौक
गणेश चतुर्थी पर भोग
गणेशजी की स्‍थापना करने के बाद पूरे विधिविधान से रोजाना गणेशजी की पूजा की जाती है और उन्‍हें सुबह शाम भोग लगाया जाता है। गणेशजी को मोदक सबसे ज्‍यादा प्रिय होते हैं, इसलिए गणेश चतुर्थी पर उन्‍हें मोदक का भोग लगाया जाता है।
© Copyright Post
❤️ Thanks for Visit ❤️

Comments

Popular Posts

Happy Nativity Feast (Mother Mary Birthday) 2020 Wishes Video

Jio rockers-jio rocker movies download

MP ITI 2nd Merit List 2020 Madhya Pradesh ITI Second Round Counselling List Download