celebrates Ganesh Chaturthi 2020 Date: गणेश चतुर्थी कब है, पूजा से पहले इन सभी बातों को भी जान लीजिए


गणेश चतुर्थी और क्‍या हैं इससे जुड़ी मान्‍यताएं

साल भर के इंतजार के बाद एक बार फिर से गणपति बप्‍पा घर-घर पधारने की तैयारी में हैं। जी हां हम सबका पसंदीदा गणेशोत्‍सव यानी गणेश चतुर्थी में अब मात्र 3 दिन शेष हैं। इस बार गणेश चतुर्थी 22 अगस्‍त, शनिवार को मनाई जा रही है। पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार भाद्र मास के शुक्‍ल पक्ष की चतुर्थी को गणेशजी का जन्‍म हुआ था। इस उपलक्ष्‍य में हर साल गणेश चतुर्थी का पर्व मनाया जाता है। इस पर्व की सबसे ज्‍यादा धूम महाराष्‍ट्र में देखने को मिलती है। मगर इस बार कोरोना के चलते सबसे ज्‍यादा प्रभावित इस राज्‍य में त्‍योहार का रंग कहीं फीका न पड़ जाए। चलिए आपको बताते हैं कि कैसे मनाते हैं गणेश चतुर्थी और क्‍या हैं इससे जुड़ी मान्‍यताएं और परंपराएं…

बेहद खर्चीले होते हैं इन राशियों के लोग, रखते हैं शाही शौक

दिन तक चलता है यह उत्‍सव

भाद्रमास के शुक्‍ल पक्ष की चतुर्थी से आरंभ होकर यह उत्‍सव 10 दिन तक यानी अनंद चौदस तक चलता है। चतुर्थी के दिन गणपति बप्‍पा घर-घर विराजते हैं और 10 दिन बाद बप्‍पा को विदा करके मूर्ति विसर्जन कर दिया जाता है। मगर आजकल लोग अपनी क्षमता के अनुसार बप्‍पा को 2 या 3 दिन की पूजा के बाद विदा कर देते हैं। गणेश चतुर्थी की पूजा अक्‍सर सभी घरों में दोपहर में की जाती है।

सभी संकट हर लेते हैं बप्‍पा

मान्‍यता है कि जिन घरों में बप्‍पा का स्‍वागत किया जाता है और 10 तक उनकी पूजा होती है, उन घरों पर बप्‍पा की विशेष कृपा होती है और उन घरों में कभी संकट नहीं आता। गणेशजी की कृपा से सभी कार्य बिना किसी बाधा के पूर्ण होते हैं। सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

कब से लग रही है चतुर्थी

चतुर्थी का आरंभ भाद्रमास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीया यानी शुक्रवार से ही मध्‍यरात्रि एक बजकर 59 मिनट से हो जाएगा और फिर चतुर्थी 22 अगस्‍त की रात को 11 बजकर 38 मिनट तक होगा। माना जाता है कि गणेशजी का जन्‍म मध्‍याह्न में हुआ था, इसलिए गणेशजी की पूजा भी दोपहर में की जाती है। गणेश जी को बुद्धि, विवेक, धन-धान्य, रिद्धि-सिद्धि का कारक माना जाता है। गणेश चतुर्थी पर उनकी पूजा करने से शुभ लाभ की प्राप्ति होती है और समृद्धि के साथ धन वृद्धि भी होती है।

गणेशजी की पूजा में दूर्वा का महत्व, इनके बिना पूजा नहीं होती पूरी

मिट्टी के गणेशजी की होती है स्‍थापना

गणेशजी की पूजा सभी देवताओं में सबसे सरल मानी जाती है। गणेश चतुर्थी के दिन घर-घर में मिट्टी के गणेशजी स्‍थापित किए जाते हैं। मान्‍यता है कि हमारा शरीर पंचतत्‍व से बना है और उसी में विलीन हो जाएगा। इसी मान्‍यता के आधार पर गणपतिजी को अनंत चौदस के दिन विसर्जित कर दिया जाता है।

Read Also

© Copyright Post
❤️ Thanks for Visit ❤️

Popular Posts

NEET Result 2020 Name Wise (Released) NTA NEET UG Result September 2020 By Name Wise’ Cut Off’ Merit List At Ntaneet.Nic.In

Bolly4u.org—bolly4u - bolly4u.tread - bolly4u.cc - 300Mb Dual Audio movies Worldfree4u - 9xmovies - World4ufree - Khatrimaza Free Movies

Dr. APJ Abdul Kalam Birthday Wishes Shayari Message Quotes Photo Pics Images Status For Facebook Whatsapp & Social Media Post